Membership Form Edmodo-DigiClass N I I D - Workplace Google-Classroom Go-

Education for Everyone Everywhere (E3) - Education is an incredibly valuable resource. With the rapid rise of technology, education is now more accessible than ever before. High costs have traditionally inhibited educators from accessing the most powerful educational technologies, Not anymore.

Google Classroom powered by Google for Education has been made available to the teachers, students free of charge. Digital Classroom (DigiClass) has amazingly powerful features are now available for schools by Jagriti Navdisha Foundation registered under the Act XXI, 1860 (Govt. of India, N.C. T. of Delhi). Digital Classroom making digital education possible in as many places as possible is the objective of the DigiClass Network. The goal is to provide network for integerted information and development by providing students everywhere with a digital educational experience with an easy-to-use interface that provides them with management tools for classrooms, lessons, assignments and course presentations.

DigiClass.Net is a platform that allows administrators, teachers, students and parents to connect in a virtual environment. Taking the next step in classroom management, DigiClass.Net allows digital classroom running with online teaching materials to be linked so that one teacher can have full and instant access to any student at any time. With a live overview of each student’s Digital Classroom, the teacher knows instantly what’s going on at each class and can focus on presenting the actual teaching material. With Digital Classroom at its core, not only does the teacher have a complete overview of each student class, they also control around the classroom looking down at each students.

Other teaching tools have been integrated into the software and are the core of classroom networking. With text-based programs like instant messages, the teacher can communicate with every student from their work station. Keeping "no student left behind" in mind, DigiClass.Net also includes an integrated digital audio video communication system; all you have to do is equip each computer with a headset and microphone.

DigiClass.Net expands its usefulness outside of teaching with computer/Tablet/Mobile and becomes even more versatile in the classroom. Over the last decade, the classroom has become increasingly Digital. No longer are teachers and students sticking to the tradition “pen and paper” learning methods. Some schools have even gone so far as to purchase tablets or laptops for their students to use in class. With technology being utilized more than ever in the educational process, the importance of having a reliable high-bandwidth Internet connection in schools is on the rise. A school must be able to provide a powerful enough connection in order to provide support for hundreds of devices utilizing the network. Every day more and more devices are being connected to the Internet which has brought up a new concept known simply as “the Integration of Information.” In a nutshell, this concept gives way to the idea that more and more devices will be connected to the Internet, which includes devices in the Digital Classroom. Here are a few predictions we have for the future of the integration of information in the Classroom.

Computer’s Classes- Engage in computer more than a course, Digital Classroom promoting openness, innovation and networks for academic lesson and the use of freedom to be creative from anytime anywhere. Students access of computer be need for success. Students and teachers can access their resources directly from the classroom without the hassle and saving the teachers’ time and saving the school money.

Smart Learning Apps- ‘Classroom’ have made learning all across the world easier and interactive. Today’s Learning Apps can have as much power as some computers and gives teachers the power and resources of the Classroom at their fingertips.

Student Engagement- Students nowadays have grown up in a digital age. The way they spend their time is with their eyes glued to a screen so why change that when it comes to the learning process. By utilizing digitally technologies, students will be more involved in classroom discussions leading to better information retention and furthering topic exploration.

These are just a few of our predictions for what the Internet, integrated information of things will mean for the future of the Digital Classroom. According to an article from Forbes Magazine, one study predicted that there will be around 26 Billion devices connected to the INTERNET by the year 2020.

Digital Classroom has undergone careful evaluation of several initiatives and ongoing technological innovations as regards e-learning to identify the practices and policies that will enhance learning for students. The goal is to give all students access to a wide range of integrated information and multimedia based technologies and to enable them to use technology to acquire critical-thinking, problem-solving, and collaborative skills, as well as deepen their understanding of content and develop their creativity.

The Digital Classroom idea from DigiClass.Net and powered by Google, Edmodo, CK-12, eBasta is geared towards incorporating technologies and integrated information infrastructure that create schools in which successful teaching and learning can flourish using electronic means. The Digital Classroom combines technologies for electronic teaching, electronic learning and content management system to deliver the 21st century learning/teaching environment. The Digital Classroom helps to create and foster innovative use of technology in the society for in-depth learning. It is worthy of note that the Digital Classroom is a successful suited for K-12 academic and computer institutions. It is also useful for assign homework, schedule quizzes, manage progress, training and certificate awarding.

The innovative use of the Digital Classroom initiative can be seen in action in the academic where teaching of students is done and the same process is repeated each time to do the exercise is carried out. This can be simplified and made more presentable if this has been recorded and updated, can be played for the new intakes at any time.

डिजिक्लास.नेट पढ़ाई का इनोवेटिव तरीका है – डिजिटल क्लासरूम एक पढ़ाई का सुविधाजनक व आसान तरीका है, जोकि बच्चो कि सीखने की क्षमता में सुधार लाता है ताकि बच्चें बेहतर स्कोर ला सके।

एजुकेशन डेस्क - बीते सालों में पढ़ाने के तरीकों में बदलाव आया है। टेक्नोलॉजी ने इस बदलाव में अहम भूमिका निभाई है। डिजिटल लर्निंग और स्मार्ट डिवाइसेज जैसे कम्प्यूटर, स्मार्ट फोन और टैबलेट के बढ़ते उपयोग ने स्टूडेंट लर्निंग को बेहतर बनाया है। ऐसे में डिजींटल क्लासरूम शिक्षा में एक नया कॉन्सेप्ट है जहां स्टूडेंट्स घर पर सीखते हैं और क्लास में संबंधित एक्टिविटीज में हिस्सा लेते हैं।

डिजिक्लास.नेट - डिजींटल क्लासरूम, पारंपरिक टीचिंग से एकदम अलग है। इस मॉडल में स्टूडेंट्स ऑनलाइन लेक्चर्स घर पर अपनी सुविधानुसार ले सकते हैं और अगले दिन क्लास में वे उसी लेक्चर से जुड़े असाइनमेंट करते हैं। पढ़ाई का यह तरीका न केवल सीखने की क्षमता में सुधार लाता है, बल्कि स्टूडेंट्स का स्कोर भी बेहतर होता है।

क्या है डिजींटल क्लासरूम - इसके तहत टीचर्स अपने लेक्चर्स रिकॉर्ड करते हैं और उन वीडियो को ऑनलाइन पोस्ट कर देते हैं, जिन्हें स्टूडेंट्स एक्सेस कर सकते हैं। छात्र इन वीडियोज को देखकर घर पर पढ़ते हैं और जब क्लास में आते हैं तो वे उस लेक्चर के साथ तैयार होते हैं। अगले दिन क्लासरूम में टीचर्स पोस्टेड लेक्चर से जुड़ी एक्टिविटीज करवाते हैं और स्टूडेंट्स इनमें हिस्सा लेते हैं। अगर टॉपिक से जुड़ा कोई भी कॉन्सेप्ट क्लियर न हो तो वे क्लास में सवाल पूछ सकते हैं। इससे टीचर्स हरेक स्टूडेंट की समस्या पर ध्यान दे पाते हैं। साथ ही स्टूडेंट्स से इंटरेक्शन के लिए भी उन्हें अधिक समय मिलता है। इसके अलावा छात्र अपनी समस्याएं टीचर्स से ऑनलाइन चैट के जरिए भी सुलझा सकते हैं।

क्यों है जरूरत - डिजींटल क्लासरूम को अपनाए जाने की मुख्य वजह है बेमेल शिक्षक-छात्र अनुपात के चलते खराब रिजल्ट। यानी स्टूडेंट्स ज्यादा और टीचर्स कम जिसका असर सीधे रिजल्ट पर होता है। दूसरी वजह यह भी है कि क्लास में पूरा वक्त लेक्चर में दिए जाने की वजह से स्टूडेंट्स-टीचर इंटरेक्शन काफी कम हो जाता है। डिजींटल क्लासरूम इस चुनौती को पार करने में मदद करता है। OR यह कैसे मददगार है ?

चूंकि लेक्चर्स समयबद्ध नहीं होते, इसलिए उन्हें कितनी भी बार देखा जा सकता है। जिन छात्रों की सीखने की क्षमता अच्छी होती है, इस तरीके से उनका समय बचता है। स्टूडेंट्स जो कुछ भी पढ़ते हैं, अगले दिन वे उसे प्रैक्टिस में लाने की कोशिश करते हैं। पहले से की गई तैयारी लर्निंग स्किल्स में सुधार लाती है। कहां हो रहा है इस्तेमाल कुछ सालों पूर्व पश्चिम के हाई स्कूल्स में शुरू हुआ यह तरीका अब दुनिया भर में मशहूर हो रहा है। भारतीय बी स्कूल्स डिजींटल क्लासरूम का उपयोग तेजी से बढ रहा हैं। गूगल क्लासरूम एक एजुकेशन-फोकस्ड टूल है जो कि शिक्षकों को क्लास मैनेज करने और उन्हें सेट-अप करने में सहायता करता है। इसमें जीमेल, डॉक्स, कैलेंडर और हैंगआउट्स सहित ऑनलाइन सॉफ़्टवेयर है। यह प्रणाली का उपयोग करने वाले छात्र क्लासरूम के वर्क पेज पर, क्लास स्ट्रीम में, या क्लास कैलेंडर पर अपने असाइनमेंट्स को देख सकते हैं, और अपने पूरे काम को सबमिट करने के लिए इसका उपयोग भी कर सकते हैं। सभी क्लास मैटेरियल्स को स्वचालित रूप से गूगल ड्राइव फ़ोल्डर्स में दायर किया जाता है। गूगल युटुब एवं स्वयं के कलेक्शन को शामिल किया जाता है। विशेषकर, इस प्लेटफार्म में शिक्षकों के लिए प्रणाली को बेहतर बनाने व डिजींटल क्लासरूम का उपयोग करना है। दरअसल देश में ऐसे स्‍कूलों की संख्‍या कम ही है, जहां डिजिटल डिवाइसेस उपयोग की जाती हैं। गूगल क्लासरूम छात्रों और शिक्षकों के बीच अच्छा विकल्प है। डिजिक्लास.नेट - जागृति नवदिशा फाउंडेशन (अधिनियम, XXI, 1860 सरकार एनसीटी दिल्ली, भारत) द्वारा एकीकृत शिक्षा और विकास नेटवर्क को समृद्ध करने के लिए और शिक्षण संस्थान इसके साधन का लाभ तथा तकनीकी से जुड़े, अपनाए इसके लिए प्रयासरत हैं।

फायदे - टीचर्स हरेक स्टूडेंट पर ध्यान देने के लिए अधिक समय निकाल पाते हैं और उनके सवालों का जवाब भी दे पाते हैं।

 स्टूडेंट्स को इससे लेक्चर को रिवाइज करने का मौका मिलता है।

 इसके जरिए छात्र समूह में भी पढ़ाई कर सकते हैं और अपने आइडियाज एक दूसरे से शेयर कर सकते हैं।

 खुद की जिम्मेदारी पर पढ़ाई के चलते स्टूडेंट्स ज्यादा आत्मनिर्भर होते हैं।

 किसी वजह से अनुपस्थित चल रहे छात्र भी इसका फायदा ले सकते हैं।

 वीडियो ट्यूटोरियल ऑडियो और विजुअल चीजें ज्यादा जल्दी और बेहतर ढंग से दिमाग में कैद होती हैं, इसलिए इन्हें याद रख पाना सरल होता है।

 वीडियो ट्यूटोरियल अगर वे सिर्फ वीडियो देखकर रह जाते हैं और एक्टिविटी लेक्चर में नहीं जाते तो इससे उन्हें कोई फायदा नहीं मिलेता है।

 उन स्टूडेंट्स के लिए यह बड़ी समस्या होगी जो अपने आप नहीं सीख सकते और जिन्हें हर बार मार्गदर्शन की जरूरत होती है।

बेहतर लर्निंग - डिजींटल क्लासरूम पारंपरिक टीचिंग शैली को पूरी तरह से नए और इनोवेटिव कॉन्सेप्ट में बदलता है जो शिक्षकों को बेहतर ढंग से सिखाने और स्टूडेंट्स को आसानी से सीखने में मदद करता है। यह एक्टिव लर्निंग का एक प्रकार है जहां स्टूडेंट्स को व्यस्त रखने के लिए अलग- अलग स्ट्रैटेजी होती है। पारंपरिक क्लासरूम और डिजींटल क्लासरूम में अंतर-

पारंपरिक क्लासरूम:

 टीचर नोट्स के जरिए क्लास में पढ़ाते हैं।

 स्टूडेंट्स क्लासरूम में आने से पहले तैयारी नहीं करते।

 स्टूडेंट्स के पास कोई सूचना नहीं होती कि क्या पढ़ाया जाएगा।

 टीचर खुदके तैयार टॉपिक पर लेक्चर हैं ।

 छात्रों के पास सवाल पूछने का समय नहीं होता।

 स्टूडेंट्स लेक्चर्स को समझने की कोशिश करते हैं।

 टीचर स्टूडेंट्स को ग्रेड्स देते हैं।

डिजींटल क्लासरूम:

 टीचर प्रीलोडेड व अपने लेक्चर रिकॉर्ड करके ऑनलाइन पोस्ट कर सकते हैं।

 छात्र टॉपिक के अपलोडेड वीडियो देखकर आते हैं।

 छात्र लेक्चर के बारे में पूरी तरह तैयार होते हैं।

 स्टूडेंट्स द्वारा तैयार टॉपिक पर एक्टिविटीज करवाई जाती हैं।

 सवालों के स्पष्टीकरण के लिए काफी समय होता है।

 जो कुछ पढ़ा है उसे आजमाना सिखाया जाता है।

 टीचर संबंधित टॉपिक से जुड़ी अतिरिक्त जानकारी पोस्ट करते हैं।